रुपये में लौटी मजबूती, कल के एतिहासिक निचले स्तर के मुकाबले 13 पैसे तेजी पर आया

विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि विदेश में डॉलर की मजबूती से भी रुपये के सेंटीमेंट पर असर पड़ा. अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट ने रुपये के नुकसान को सीमित किया.

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया कल 78.40 रुपये प्रति डॉलर तक चला गया था और इसने अपना ऐतिहासिक निचला स्तर छू लिया. कल के कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 78.39 पर बंद हुआ था और आज ये शुरुआती कारोबार में 13 पैसे की मजबूती के साथ 78.26 पर कारोबार कर रहा था.

नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर कल बंद हुआ था रुपया
विदेशी फंडों की लगातार निकासी और घरेलू शेयर बाजार में गिरावट के चलते रुपया बुधवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 19 पैसे लुढ़ककर 78.39 रुपये प्रति डॉलर के एक नये रिकॉर्ड निचले स्तर पर बंद हुआ. विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि विदेश में डॉलर की मजबूती से भी रुपये की धारणा पर असर पड़ा. हालांकि, अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट ने रुपये के नुकसान को सीमित किया.

क्या है जानकारों का कहना
रेलिगेयर ब्रोकिंग के कमोडिटी और करेंसी विभाग की उपाध्यक्ष, सुगंधा सचदेवा ने कहा, “घरेलू शेयरों से बेरोकटोक धन निकासी और डॉलर के मजबूत होने के बीच, कुछ समय के लिए 78 अंक के आसपास मंडराने के बाद, भारतीय रुपया डॉलर के मुकाबले एक नए रिकॉर्ड निचले स्तर तक चला गया.” एलकेपी सिक्योरिटीज के रिसर्च एनालिसिस विभाग के उपाध्यक्ष, जतिन त्रिवेदी ने कहा, “फेडरज रिजर्व के आक्रामक रुख और भारतीय बाजारों में विदेशी संस्थागत निवेशकों की आक्रामक बिक्री के कारण रुपया कमजोर होकर 78.30 से नीचे चला गया.”

डॉलर इंडेक्स का हाल
इस बीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.05 फीसदी की मजबूती के साथ 104.48 पर पहुंच गया था. वैश्विक तेल सूचकांक ब्रेंट क्रूड वायदा 4.46 फीसदी गिरकर 109.54 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशक शेयर बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे. उन्होंने बुधवार को शुद्ध रूप से 2,920.61 करोड़ रुपये के शेयर बेचे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.