भारतीय स्मार्टफोन उपयोगकर्त्ता रोजाना 30 मिनट का समय बिताते हैं मीम्स देखने में |

Spread the News

भारतीय स्मार्टफोन उपयोगकर्त्ता प्रतिदिन 30 मिनट मीम्स देखने में बिताते हैं। सोमवार को एक नई रिपोर्ट से यह जानकारी सामने आई है। रणनीति परामर्श फर्म रैडसीर की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश उपयोगकर्त्ता तनाव को दूर करने के एक अच्छे तरीके के रूप में मीम्स का आनंद लेते हैं, 50 प्रतिशत लोगों को लगता है कि वो मीम्स पर खपत करने वाले समय में इजाफा कर सकते हैं। मृगंक गुटगुटिया, पार्टनर, रैडसीर ने कहा है, ‘मीम्स को शेयर करने की क्षमता उन्हें समान रुचि वाले समूहों में लोकप्रिय बनाती है क्योंकि अधिकांश लोग उन्हें उसी तरह से संबंधित पाते हैं। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि पिछले वर्ष करीब 80 प्रतिशत लोगों ने मीम्स पर समय बिताने में वृद्धि की है। मीम्स अब एंटरटेनमैंट सैक्टर के चरम पर पहुंच गया है। इस बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, कई सारे मीम्स क्रिएशन प्लेटफॉर्म आ गए हैं, यह दर्शाता है कि ये उद्योग फल फूल रहा है। गुटगुटिया ने कहा, नब्बे फीसदी उपभोक्ता खुद मीम बनाना चाहते हैं, जो मीम्स बनाने वाले एप्स की बड़ी मांग को दर्शाता है। सोशल मीडिया मीम्स तक पहुंच का प्राथमिक स्रोत है, इसके बाद दोस्तों और परिवारों से पता चलता है।

सोशल मीडिया ने सामग्री निर्माण में अपना हाथ आजमाने की दी अनुमति
रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, सोशल मीडिया ने सभी को सामग्री निर्माण में अपना हाथ आजमाने की अनुमति दी है, इस प्रकार, इसने मीम्स निर्माण एप्स और प्लेटफार्मों के उदय का मार्ग प्रशस्त किया है। लोग ब्रांड निर्माण के लिए और रचनात्मक आऊटलेट के रूप में मीम्स का उपभोग करना या बनाना चाहते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है, एक महत्वपूर्ण पहलू जो मीम्स को कम समय में इतनी बड़ी लोकप्रियता हासिल कराता है, वह यह है कि कोई भी व्यक्ति उनसे जुड़ सकता है और यह ब्रांड निर्माण और मार्केटिंग के लिए बहुत अच्छा काम करता है।